प्यार को और करीब लाने वाली चुनिन्दा 51 रोमांटिक शायरी / 51 Romantic Whatsapp Status

By | 8th June 2019

Top  51 Romantic Whatsapp Status,  Romantic Shayri In Hindi

दोस्तों आज का आर्टिकल खास कर उनके लिए हैं जो अपने प्यार को अपने आप से ज्यादा चाहते हैं.. आज के इस पोस्ट में लाज़वाब  चुनिन्दा

को लेकर एक संग्रह बनाया हैं, जहा आप को  एक से बढ़कर एक प्यार मोहब्बत, इश्क से जुडी चुनिन्दा शायरियाँ मिलेंगी….

 

 

आईने में वो देख रहे थे बहार-ए-हुस्न,
आया मेरा ख़याल तो शरमा के रह गए !!

वो तब भी थी, अब भी है और हंमेशा रहेगी,
ये रूहानी मोहब्बत है, कोई तालीम नहीं, जो पूरी हो जाये !!

 

मेरी शायरी ही है दिल का मरहम,
अगर मैं शायर ना होता तो शायद पागल होता !!

 

उसने मन्दिर के सामने घर क्या ख़रीदा,
एक पल में सारा शहर भक्त हो गया !!

 

ज़हर से ज्यादा खतरनाक है ये मोहब्बत,
ज़रा सा कोई चख ले तो मर-मर के जीता है !!

 

डरता हूँ कुछ कहने से,
और रोज मरता हूँ, ना कहने से !!

 

मांग लूंगा तुझे तकदीर से,
जी नही भरता तेरी तस्वीर से !!

 

मैं जानता हूँ फिर भी पूछता हूँ,
तुम आईना देख कर बताओ की मेरी पसंद कैसी है !!

 

मोहब्बत भी कितना प्यारा शब्द है,
पूरा कहने से पहले ही एक होठ दूसरे होंठ को दाे बार चूम लेता है !!

 

मोहब्बत तो पाक थी है और हमेशां रहेगी,
शर्मिन्दा तो इसे खोखले रिवाज़ो और दोगले लोगो ने कर रखा है !!

 

बड़ा अजीब होता है ये मोहब्बत का खेल भी,
एक थक जाये तो दोनों हार जाते है !!

 

सुना है तुम ले लेती हो हर बात का बदला,
आजमाएंगे कभी तुम्हारे होठो को चूम कर !!

 

मार दे एक दफ़ा ही नशीला सा कुछ खिला के,
क्यूँ जहर दे रहे हो मोहब्बत मिला मिला के !!

 

 

मुझे मरना कबूल है तेरी जुदाई नहीं,
बस उसके कहे एक यही लब्ज ने मुझे बर्बाद कर दिया !!

 

आखिर तुम भी आइना ही निकले,
जो सामने आया उसी का हो लिए !!

 

भूल सकती हो तो भूल जाओ, इजाज़त है तुम्हे,
न भूल पाओ तो लौट आना, एक और भूल की इजाज़त है तुम्हे !!

 

दिल तो हर किसी के पास होता है,
लेकिन सब दिलवाले नहीं होते !!

 

मेरी जिन्दगी में रहेगी तु उम्र भर,
अब चाहे प्यार बनकर रह या दर्द बनकर !!

 

 

ढाई अक्षर की बात कहने में कितनी तकलीफ़ उठा रखी है,
तूने आँखों में छुपा रखी है मैंने होठों में दबा रखी है !!

 

चाहत की कोई हद नहीं होती,
चाहे सारी उम्र बीत जाए मगर मोहब्बत कभी कम नहीं होती !!

 

तुम्हारे बाद मैं जिसका हो गया पगली,
उसी का नाम तन्हाई है !!

 

गीली लकड़ी सा इश्क उन्होंने सुलगाया है,
ना पूरा जल पाया कभी ना बुझ पाया है !!

 

पलकों की हद को तोड़कर दामन पे आ गिरा,
एक अश्क मेरे सब्र की तौहीन कर गया !!

 

ज़िक्र बेवफाओ का था, रात सर-ए-महफ़िल में,
झुका मेरा भी सर जब मेरे यार का नाम आया !!

 

कुछ इसलिये भी नहीं करते हाल ए दिल बयां,
समझता कोई नहीं और समझाता हर कोई है !!

 

जरूरी नही मेरे हर सवाल का तु जवाब दे,
मुस्कुराकर भी तु मेरी उलझन दुर कर सकती है !!

 

ये आईने नही दे सकते तुझे तेरे हुस्न की ख़बर,
कभी मेरी इन आँखों से आकर पूछ की तुम कितनी हसीन हो !!

 

जिंदा हूँ तब तक तो हालचाल पुछ लिया करो,
मरने के बाद हम भी आजाद तुम भी आजाद !!

 

जरा तो शर्म करती तू ,
मोहब्बत चुप चुप के और नफरत सरे आम !!

 

खुदा का शुक्रिया की ख्वाब बना दिए,
वर्ना तुम्हे देखने की हसरत तो अधूरी ही रह जाती !!

 

डूबी है मेरी उंगलिया खुद अपने लहू में,
ये कांच के टुकडो को उठाने की सजा है !!

 

तुम्हे क्या पता की किस दर्द में हूँ मैं,
जो लिया नही, उस कर्ज में हूँ मैं !!

 

कोई नही आऐगा मेरी जिदंगी मे तुम्हारे सिवा,
एक मौत ही है जिसका मैं वादा नही करता !!

 

निकल रहा था सुबह तक मेरे होठों से खून,
रात को इस कदर तेरी तस्वीर को चूमा था मैंने !!

 

 

सुना था की दर्द का एहसास तो अपनो को होता है,
यहाँ तो दर्द ही अपने देते है तो एहसास कौन करेगा !!

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *