Bewafa Shayari Images | बेवफा शायरी इमेजेज | Bewafa HD Photos

By | 26th May 2019

Bewafa Shayari Images and हिंदी बेवफा शायरी इमेजेज with Bewafa HD Photos Wallpapers to download and share with Girlfriend / Boyfriend to express feelings. So check the latest Bewafa Shayari Pic, Bewafai Shayari Hindi share at max. Earlier we added some Dard Shayari Images and Sad Shayari Images on our site

 

 

आज रास्ते में कुछ प्यार भरे पन्ने टुकड़ो में मिले,
शायद फिर किसी गरीब की मोहब्बत का तमाशा हो गया !!

 

वो कहानी थी जो चलती रही,
मैं किस्सा था जो खत्म हुआ !!

 

छोड़ दिया हमने उसका दीदार करना हमेशा के लिए,
जिसको प्यार की कदर ना हो उसे मुड़ मुड़ के क्या देखना !!

 

बताओ ना कैसे भुलाऊँ तुम्हे,
तुम तो वाक़िफ़ हो इस हुनर से !!

 

जब से आये है बेवफ़ाई के मौसम,
बिन जामों के न फिर रात ढली है !!

 

उस सफ़र में धोखा हम भी दे सकते थे मगर,
रगो मे दौड़ती वफा से बगावत ही नही होती !!

 

हद से बढ़कर चाहना उन्हे ज़िद थी मेरी,
ये शर्त कब रखी थी की वो वफ़ा ही करेंगे !!

 

अगर दिल तोड़ने पर ईनाम रखा जाये,
कसम से तुम मालामाल हो जाओगे !!

 

कितने बेवफा होते है ये जुगनू भी,
रात में रौशनी दिखाकर अंधेरे की तरफ ले जाते है !!

 

उस दिन ही दिल से उतर गयी थी वो,
जिस दिन घमंड से बोली थी की भूल नही पाओगे मुझे !!

 

चुपचाप गुजार देंगे अपनी पूरी जिन्दगी तेरे बिना,
लोगो को भी बता देंगे की मोहब्बत ऐसे भी होती है !!

 

मुझे ढूंढने की कोशिश अब न किया कर,
तूने रास्ता बदला तो मैंने मंज़िल बदल ली !!

 

पार्लर जाके रंग तो गोरा कर लोगी,
पर क्या करोगी तुम अपने इस काले दिल का !!

 

लोग सुबूत माँगते है हम से हमारी बर्बादी का,
अपने हादसों के हम अकेले ही गवाह है !!

 

याद है मुझे मेरे सारे गुनाह…एक मोहब्बत करली….
दूसरा तुमसे कर ली….तीसरा बेपनाह कर ली !!

 

सिर्फ हम ही है उनके दिल में,
ले डूबी हम को ये गलत फहमी !!

 

याद नहीं वो रूठी थी या मैं रूठा था,
पर हमारा साथ जरा सी बात पर छूटा था !!

 

बहल तो जाता उसके झूठे वादों से मेरा दिल,
लेकिन कब तक चलती पानी में काग़ज की कश्तियाँ !!

 

हुस्न वाले जब तोड़ते है दिल किसी का,
बड़ी सादगी से कहते है मजबूर थे हम !!

 

मैंने सुना है की वो अब किसी और से प्यार करती है,
उसकी आदत नही बदली, अब भी वो दिल का व्यपार करती है !!

 

आज सड़क पर निकले तो तेरी याद आ गई,
तूने भी इस सिग्नल की तरह रंग बदला था !!

 

तुमसे बिछड के फर्क बस इतना हुआ,
तेरा गया कुछ नहीं और मेरा रहा कुछ नहीं !!

 

कैसा अजीब रिश्ता है ये देखो,
दिल धोखे में है और धोखेबाज आज भी दिल में है !!

 

जनाजा मेरा देखकर बोली वो,
वो ही मरा क्या, जो मुझ पर मरता था ?

 

उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा,
दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है !!

 

हम भी वकालत करते थे मोहब्बत वालो की,
एक बेवफा का केस आया और हम खुद कटघरे में खड़े हो गए !!

 

इतना ऐतबार तो अपनी धड़कनो पर भी हमने ना किया,
जितना उस बेवफा की बातों पर करते थे !!

 

नब्ज कांटी तो खून लाल ही निकला,
सोचा था सबकी तरह ये भी बदल गया होगा !!

 

बहुत खूबसूरत है ना वहम ये मेरा,
की तुम जहाँ भी हो सिर्फ मेरे हो !!

 

मिलता ही नही तुम्हारे जैसा कोई और इस शहर में,
हमे क्या मालूम था की तुम एक हो और वो भी किसी और के !!

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *