Category Archives: हास्य कहानी

शेखचिल्ली की ख्याली जलेबी

एक बार एक बुढ़िया किसी गाड़ी से टकरा गई। वह बेहोश होकर गिर पड़ी। लोगों की भीड़ ने उसे घेर लिया। कोई बेहोश बुढ़िया की हवा करने लगा तो कोई सिर सहलाने लगा। गाड़ीवाला टक्कर मारते ही भाग गया था। वहीं शेखचिल्ली जनाब भी खड़े थे। एक आदमी बोला, ‘जल्दी से बुढ़िया को अस्पताल ले… Read More »

शेखचिल्ली की खिचडी

एक दिन शेख्चिल्ले बीमार हो गया। हकीम साहिब रहते थे शहर में। शेखचिल्ली के गाँव से दो मील के फासले पर, जब शेखचिल्ली उनके पास पहुंचा तो उन्होंने बताया यह चार पुडिया सौंफ के अर्क के साथ खाओ। शेखचिल्ली बोला श्रीमान खाऊँ क्या? हकीम साहिब बोले खिचडी। अब शेखचिल्ली जिसने अभी तक खिचडी न खाई… Read More »

शेखचिल्ली की नौकरी

शेखचिल्ली अब एक अमीर के यहाँ नौकर हो गया। उसने उसे ऊँट चराने के काम पर लगा दिया। वह हर रोज ऊंटों को जंगल में ले जाता और शाम को चराकर वापिस ले आता। एक दिन वह एक पेड़ के नीचे पड़कर सो गया तो ऊंटों को रस्सी पकड़कर कोई ले गया। अब वह जब… Read More »

एक बार शेखचिल्ली ने अपनी माँ से पूछा कि, “माँ, लोग कैसे मर जाते हैं।” माँ ने कहा, “बेटा, मूँद गईं आँखें और बीत गईं लाखें।” शेखचिल्ली ने सोचा कि वे भी मर के देखेंगे। गाँव के बाहर जाकर एक गड्ढा खोद कर उसी में आँखें बन्द करके लेट गये।” थोड़ी देर बाद जब रात हो गई, उस रास्ते से दो चोर बातें करते जा रहे थे कि अगर एक और साथी होता तो अच्छा रहता। एक घर के पीछे रहता, एक बाहर और तीसरा घर के अन्दर चोरी करने जाता। शेखचिल्ली ने कहा, “मैं तो मर गया हूँ, अगर ज़िंदा होता तो तुम्हारी मदद कर देता।” एक चोर ने कहा कि,” तुम, बाहर निकल के हमारी मदद कर दो फिर आके मर जाना। ऐसी मरने की जल्दी क्या है।” शेखचिल्ली को ठंड लग रही थी और भूख भी। सोचा कि इसमें बुरा ही क्या तो वे निकल के चोरों की मदद करने आगये। यह तय हुआ कि शेखचिल्ली अन्दर चोरी करने जायेंगे। घर के अन्दर पहुँच कर शेखचिल्ली कुछ खाने पीने की चीज़ ढ़ूँढ़ने लगे। रसोई में उन्हें दूध, चीनी और चावल मिल गये तो उन्होंने खीर बनाना शुरू किया। रसोई में एक बुढ़िया फर्श पर सोई हुई थी। जैसे जैसे उसे आँच लग रही थी, उसके हाथ फैल रहे थे। शेखचिल्ली ने सोचा कि बुढ़िया खीर माँग रही है। उन्होंने कहा, “बुढ़िया, इतनी सारी खीर बना रहा हूँ, मैं अकेले ही थोड़े ही खाऊँगा, तुझे भी दूँगा।” लेकिन बुढ़िया का हाथ फैलता ही रहा। शेखचिल्ली ने झुँझला के गरम गरम खीर उसके हाथ पर डाल दी। बुढ़िया चीखती, चिल्लाती हड़बड़ा के उठ के बैठ गई और शेखचिल्ली पकड़े गये। उनहोंने बताया कि मुझे पकड़ के क्या करोगे, असली चोर तो बाहर हैं। मैं तो केवल अपने खाने का इन्तज़ाम कर रहा था।

एक बार शेखचिल्ली ने अपनी माँ से पूछा कि, “माँ, लोग कैसे मर जाते हैं।” माँ ने कहा, “बेटा, मूँद गईं आँखें और बीत गईं लाखें।” शेखचिल्ली ने सोचा कि वे भी मर के देखेंगे। गाँव के बाहर जाकर एक गड्ढा खोद कर उसी में आँखें बन्द करके लेट गये।” थोड़ी देर बाद जब रात… Read More »

शेखचिल्ली की कहानियां

एक बार शेखचिल्ली ने अपनी माँ से पूछा कि, “माँ, लोग कैसे मर जाते हैं।” माँ ने कहा, “बेटा, मूँद गईं आँखें और बीत गईं लाखें।” शेखचिल्ली ने सोचा कि वे भी मर के देखेंगे। गाँव के बाहर जाकर एक गड्ढा खोद कर उसी में आँखें बन्द करके लेट गये।” थोड़ी देर बाद जब रात… Read More »

बार टेंडर

एक आदमी बार में जाता हैं. बार टेंडर के पास जाता हैं और उससे कहते हुए जोर जोर से चिल्लाता है – “अरे मैं तो करोडपति बन गया . खुशिया मनाओ , मुझे भी पिलाओ सबको पिलाओ … और तुम भी पियो “ बार टेंडर को लगता हैं सही बात हैं , ये तो ख़ुशी… Read More »

बिल भिजवा देता हूँ!

एक डॉक्टर साहब एक पार्टी में गए अपने बीच शहर के एक प्रतिष्ठित डॉक्टर को पाकर लोगों ने उन्हें घेर लिया किसी को जुकाम था तो किसी के पेट में गैस सभी मुफ्त की राय लेने के चक्कर में थे शिष्टाचारवश डॉक्टर साहब किसी को मना नहीं कर पा रहे थे!   उसी पार्टी में… Read More »

पत्नी की क्वाहिशें

संता और जीतो की शादी हो गयी, संता ने सोचा ये एक नए ज़माने की शादी है इसलिए दोनों की जिम्मेवारियां बराबर होनी चाहिए।   इसलिए हनीमून से लौट कर पहली ही सुबह संता जीतो के लिए बिस्तर पर ही ब्रेकफास्ट लाया।   जीतो उसकी पाक कला से ज्यादा प्रभावित नहीं हुई, उसने बड़े अनादर… Read More »

अजीबो-गरीब इंटरव्यू!

एक बार एक आदमी की प्रमोशन के लिए उसका डिपार्टमेंटल इंटरव्यू हुआ।   बॉस: चलो मुझे तुम्हारी अंग्रेजी चैक करने दो। मैं जो कहूँगा तुम मुझे उसका “Opposite” बताना। आदमी: ठीक है सर   बॉस: Good आदमी: Bad   बॉस: Come आदमी: Go   बॉस: Ugly   आदमी: Pichhlli   बॉस: Pichhli? आदमी: UGLY  … Read More »

डॉक्टर और बीमार चंदू मियां

डॉक्टर बीमार चंदू मियां से-कैसी तबीयत है मियां? चंदू मियां-ठीक होती तो आपके पास काहे आते.. डॉक्टर-मैंने जो दवा दी थी वो खा ली थी। चंदू मियां-कैसी बातें करते हैं, दवा तो बोतल में भरी हुई थी। खाली काहे होगी? डॉक्टर-अमा, मेरा मतलब है, दवा पी ली थी। चंदू मियां-क्या कह रहे हैं, आपने ही… Read More »