Ishq mohhabat sayari

By | 23rd June 2019

दोस्तो आज की पोस्ट खास हैं जो  Ishq Shayari  के ऊपर बनाया गया हैं जिसमे आप सभी पढ़ सकते हैं ढेरो  इश्क Status  को जो आप सभी इश्क करने वाले वाले दोस्तों को पसंद आएगा। क्युकी यह पोस्ट खास उन सभी आशिको के लिए हैं, जिन्हे इश्क हुआ हैं किसी से. और यह पोस्ट उन सभी के प्यार की जुबान बनेगा प्यार भरे अल्फ़ाज़ों के साथ  Ishq Shayari के इस कलेक्शन में.

तो आईये पढ़ते इश्क के रंगो से रंगी इश्क Status की इस लाज़वाब किताब को और अपनी मनपसंद शायरी को अपनी मेहबूबा को शेयर या पोस्ट करे कीजिये।

 

 

प्यार करते हो तो भरोसा करना सिखो,
भरोसा नहीं है जब तो अजनबी की तरह ही रहो !!

 

तमाम तकलीफों का एक इलाज,
तकिये की जगह तेरा हाथ !!

 

पुछा जो उससे मैंने की क्यूँ छोड़ दिया मुझे,
जवाब में पगली मेरे आंसू पोंछते पोंछते रो पड़ी !!

 

डालना अपने हाथों से कफन मेरी लाश पर,
की तेरे दिए जखमों के तोहफे कोई और ना देख ले !!

 

फिर कभी नहीं लौटा,
वक़्त, वो शाम और मेरा चैन !!

 

आईना हूँ तेरा, क्यूँ इतना कतरा रहे हो,
सच ही कहूँगा, क्यूँ इतना घबरा रहे हो !!

 

तू वैसी ही है जैसा मैं चाहता हूँ ,
बस मुझे वैसा बना दे जैसा तू चाहती है !!

 

इजाजत हो तो मैं भी तुम्हारे पास आ जाऊं,
देखो ना चाँद के पास भी तो एक सितारा है !!

 

रात होते ही,
तेरे ख़यालों की सुबह हो जाती है !!

 

शीशे और पत्थर का इश्क तेरा मेरा,
अंजाम बस टूटने के सिवा क्या है !!

 

 

बात बस इतनी सी है,
की अब तुम ही तुम ना रहे !!

 

वैसे तो मेरे लिए बहुत लडकियां दीवानी है,
मगर मैं तो बस एक का ही दीवाना था !!

 

ये मुकरने का अंदाज़ मुझे भी सीखा दो,
वादे नीभा-नीभा के थक गया हूँ मैं !!

 

ख़्वाब ही ख़्वाब कब तलक देखू ,
अब दिल चाहता है तुझको भी इक झलक देखू !!

 

लम्हे लम्हे में बसी है तुम्हारी यादों की महक,
ये बात और है की नज़रों से दूर बसे हो तुम !!

 

तुमसे गले मिलकर बस एक बात बतानी है,
तेरे सीने में जो धड़कती है वो मेरी निशानी है !!

 

ज़ालिम था वो और ज़ुल्म की आदत भी बहुत थी,
मजबूर थे हम क्यूंकि उससे मोहब्बत भी बहुत थी !!

 

उसके जैसी कोई और कैसे हो सकती है,
और अब तो वो खुद भी अपने जैसी नहीं रही !!

 

कभी कभी सबके सामने हँसना,
तनहा रोने से ज्यादा तकलीफ देता है !!

 

सामने होते हुए भी तुझसे दूर रहना,
बेबसी की इससे बड़ी मिसाल क्या होगी !!

 

रिश्ते टूट न जायें इस डर से बदल लिया है खुद को,
अपनी ज़िद से ज्यादा रिश्तों को अहमियत दी है मैंने !!

 

सिर्फ एक ही तमन्ना रखते है हम अपने दिल में,
मोहब्बत से याद करो फिर चाहे मुद्दतो बात न करो !!

 

मुझे नहीं पता की ये बिगड़ गया या सुधर गया,
बस अब ये दिल किसीका भरोसा नहीं करता !!

 

तेरी बाहों में मरने की तमन्ना,
मुझे जीने के लिए उकसाने लगी है !!

 

तेरा आधे मन से बात करना,
मुझे पूरा तोड देता है !!

 

तेरे बाद खुद को इतना तनहा पाया,
जैसे लोग हमें दफना के चले गए हो !!

 

एक कुसूर कुछ ऐसा भी कर जाओ,
जो कुसूर ना लगे पर उससे एक नया सबक मिल जाए !!

 

फैंसला नहीं हो पा रहा,
तनहा मैं हूँ या रात !!

 

खुदगर्ज ही सही, कुछ भी कहो,
पर सुनो, तुम्हारी जरूरत है मुझे !!

 

नजरअंदाज उन्हें कर सकू जो नजर के सामने हो,
उनका क्या करू जो दिल में छुपे बैठे है !!

 

तन्हाई सौ गुना बेहतर है,
झूठे वादों से, झूठे लोगों से !!

 

उन्हे याद तो हम भी आते ही होंगे,
वफाओं का जब कहीं जिक्र होता होगा !!

 

क्यूँ रे मुक़द्दर क्यूँ दर्द पे दर्द दिए जा रहा है,
अब नहीं सहा जाता, हो सके तो मौत ही दे दे !!

 

सजदा कीजिये या दुआओं में मांग लीजिये,
जो आपका है ही नहीं वो आपका होगा भी नहीं !!

 

कोई ‪#‎Award‬ तो उन लोगों को भी मिलना चाहिए,
जो झूठे वादे भी बड़ी चालाकी से करते है !!

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *