Ishq sayari for whatsApp and facebook in hindi

By | 23rd June 2019

दोस्तो आज की पोस्ट खास हैं जो  Ishq Shayari  के ऊपर बनाया गया हैं जिसमे आप सभी पढ़ सकते हैं ढेरो  इश्क Status  को जो आप सभी इश्क करने वाले वाले दोस्तों को पसंद आएगा। क्युकी यह पोस्ट खास उन सभी आशिको के लिए हैं, जिन्हे इश्क हुआ हैं किसी से. और यह पोस्ट उन सभी के प्यार की जुबान बनेगा प्यार भरे अल्फ़ाज़ों के साथ  Ishq Shayari के इस कलेक्शन में.

तो आईये पढ़ते इश्क के रंगो से रंगी इश्क Status की इस लाज़वाब किताब को और अपनी मनपसंद शायरी को अपनी मेहबूबा को शेयर या पोस्ट करे कीजिये।

 

 

गरीबी‬ खुद के सिवा औरो पे ‪असरदार‬ नहीं होती,
शायद इसीलये ‪‎भूखो‬ की कोई सरकार‬ नहीं होती !!

 

इतना भी ना रुठो यार की ये मेरा दिल ही टूट जाए,
हम इतने भी बेदर्द नही है की आपको दर्द देकर खुश हो जाए !!

 

याद नहीं आई आज तुम्हें मेरी,
क्या मोहब्बत में भी रविवार होता है !!

 

हा मैं पागल हूँ,
और तुम मेरा पागलपन !!

 

आज तन्हा हुए तो एहसास हुआ,
कई घंटे होते है एक दिन में !!

 

ज़िंदगी मे सच्चे लोगो की तलाश करना छोड़ दिया हमने,
लोग तो सिर्फ़ वक़्त बिताने और दिल जलाने के लिए ही मिलते है !!

 

मत पूछो कितनी मोहब्बत है मुझे उनसे,
बारिश की बूँद भी अगर उन्हें छू ले तो दिल में आग लग जाती है !!

 

पथ्थर समझ के हमें मत ठुकराओ,
कल हम मंदिर में भी हो सकते है !!

 

जब से तुझ पे वारी है जिंदगी,
ना हम जिंदगी के है ना हमारी जिंदगी !!

 

हमारा भी ख़याल कीजिये कहीं मर ही ना जाए हम,
बहुत जहरीली हो चुकी है अब खामोशियाँ तुम्हारी !!

 

लिपटी रहती है तेरी याद यूँ अहेसासों से,
जैसे रूह लिपटी रहती है जिन्दगी भर साँसों से !!

 

फिर मैं हँसती हुई सुबह उसको लाकर दूँ,
वो एक रात मेरी याद में जागकर गुजारे तो सही !!

 

अपने लबो से उसने मेरा नाम क्या छुआ,
मुझे इश्क़ हो गया है ख़ुद के ही नाम से !!

 

अक्सर हम उनकी DP और STATUS रोज देखते है,
जो हमारे दिल के करीब आ के दूर हो गए हो !!

 

मैंने पहले ही कहा था की मुझसे प्यार मत करना,
देख लो अब न सो पाते है और न रो पाते है हम !!

 

डाकिये की शिक़ायत करने जा रही हूँ मैं,
मेरे पते की ख़ुशियां कहीं और दे आया है !!

 

जब चाहूँ तुम्हे मिल नहीं सकता,
लेकिन जब चाहूँ तुम्हे याद कर सकता हूँ !!

 

निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा नहीं आता,
भरोसा ही कुछ ऐसा है उसके लौट आने का !!

 

तराजू मोहब्बत का था,
बेवफाई भारी पड गयी !!

 

 

बड़ी आरज़ू थी मेहबूब को बे-नकाब देखने की,
दुपट्टा जो सरका तो कमबख्त जुल्फें दीवार बन गई !!

 

 

बड़े नाज़ुक दौर से गुज़र रहे है मोहब्बत के रिश्ते,
अब शहर बदलते है तो प्यार भी बदल जाता है !!

 

दिल करता है की मर जाऊ,
लेकिन समझ नहीं आता किस पर !!

 

अब तो डर लगता है उन लोगों से,
जो कहते है की मेरा विश्वास तो करो !!

 

तू क्या गई मेरी ज़िंदगी से,
यहाँ आँसुओं ने अपना घर कर लिया !!

 

निकले हम दुनियां की भीड़ में तो पता चला,
की हर वो शख्स अकेला है जो दुसरो पर भरोसा करता है !!

 

 

कब तक आँख में कचरा चले जाने का बहाना बनाता रहूँ ,
लो आज सरे आम कहता हूँ की मैं तुझे याद करके रोता हूँ !!

 

‎कसम‬ से हमारे ‪ईकरार‬ से वो ‪ईस‬ तरह ‪‎शरमा‬ गयी,
जैसे ‪‎पतझड के ‪मौसम में अचानक‬ बरखा सी आ गयी !!

 

सच्ची मोहब्बत तो LIC जैसी होती है,
जिन्दगी के साथ भी और जिन्दगी के बाद भी !!

तेरे प्यार की हिफाजत कुछ इस तरह की मैंने,
जब भी किसीने प्यार से देखा तो नजरें झुका ली मैंने !!

 

इश्क की गहराइयों में खुबसूरत क्या है,
मैं हूँ, तुम हो और कुछ की जरुरत ही क्या है !!

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *